लॉकडाऊन में नजर आया पुलिस का मानवीय चेहरा

 लॉकडाऊन में नजर आया पुलिस का मानवीय चेहरा

सारी दुनिया में इस वक्त कोरोना बीमारी ने महामारी का रूप इख्तियार कर कोहराम मचाकर रख दिया हैं, जिसके चलते दुनिया के हर मुल्क ने लॉकडाउन करके कोरोना की महामारी को जड़ से उखाड़ फेंकने की जि़म्मेदारी उठाई हैं। दूसरे देशों के साथ ही भारत ने भी लॉकडाउन करके देश की जनता को बचाने का बीड़ा उठाया हैं।

पहले चरण में भारत ने 21 दिन का लॉकडाउन किया था स्थिति काबू में नही आई तो लॉकडाउन का दूसरा दौर बढ़ाकर 3 मई तक कर दिया गया हैं, लेकिन इस दौरान देश में लॉकडाउन का पूरा पालन कराने के लिए देश की विभिन्न हिस्सों की पुलिस ने अनेक हथकंडे अपनाए और जिनकी कुछ वीडियों सोशल मीडिया पर भी वायरल हुई। पुलिस नागरिकों को जागरूक करने से लेकर लॉकडाउन का पालन कराने के लिए अलग-अलग रंगों में नजऱ आई।

कही पुलिस लॉकडाउन का पालन कराने के लिए उन लोंगो की आरती उतार रही है जो लॉकडाउन में बेवजह बाहर घूम रहे थे, तो कही पुलिस लॉकडाउन तोडऩे वालों को फूल दे रही थी और कही मास्क बांट रही थी तो कही पुलिस ने गाना गाया और लोगों को घरों से बाहर न निकलने का संदेश दिया। इन दिनों पुलिस का मानवीय चेहरा खुब नजऱ आ रहा है जब पुलिस भूखों को खाना खिला रही है तो कही प्यासों को पानी पिला रही है, जिसे देख जनता में पुलिस का एक अच्छा मैसेज जनता को मिल रहा है।

इसी के साथ ही पुलिस कहीं बहुत ही आक्रमक नजऱ आ रही हैं लॉकडाउन तोडऩे वालों और बेवजह घरों से निकलने वालों की पुलिस जमकर खबर ले रही थी, कहीं बाहर निकलने पर लोगों को मुर्गा बनाकर उठक-बैठक करा रहे है तो कहीं उनकी पीठ सेक रहे हैं। तो कहीं मारने के साथ ही गरीबों के माल से लदे ठेले उलट रही थी कही सब्जियों को फेंक लोगो का नुकसान कर रही थी तो कही गाडिय़ों को क्षति पहुंचा रही थी आपको ज्ञात हो कि फरीदाबाद का एक वीडियों वायरल हुआ जिसमें पुलिस ने एक युवक की टांग ही लठ्ठ मारकर तोड़ दी इसके बाद उस युवक को एम्बुलेंस में लिटाकर अस्पताल ले जाया गया।

बहरहाल पुलिस का लॉक डाउन में इतने रूप नजऱ आना कोई हैरत की बात नही हैं सरकार का आदेश लॉकडाउन का पालन कराना था जिसे पुलिस ने अपने-अपने तरीके से अंजाम दिया और दे रही हैं खैर पुलिस की कोशिश तो यही हैं की कोई बिना वजह घरों से न निकले और जो तरीका पुलिस को सही लग रहा हैं वो उसे इस्तेमाल कर रही हैं। लेकिन हम तो आपसे यही कहेंगे कि घर में रहे सुरक्षित रहें।

Sulekha Prasad

Sulekha Prasad

"Inspiringly inspired to inspire." Grounded journalist, hungry for growth and development, with the attitude of serving society with all that I have learnt so far and will learn.

Related post